मील वाउचर लेने वालों के लिए कौन सा स्लैब है बेहतर, नया या पुराना!

News Desk

 नई दिल्ली
जो लोग आयकर (Income Tax) के नए स्लैब के तहत टैक्स भरना चाहते हैं, उन्हें कुछ फ्रिंज बेनिफिट्स का फायदा नहीं मिलेगा। दरअसल, नए स्लैब (New tax slab system) के तहत आयकर विभाग ने कंपनी की तरफ से दिए जाने वाले मील वाउचर (Tax exemption on Meal Voucher) पर टैक्स छूट के नियम को बदल दिया है। एक नोटिफिकेशन में आयकर विभाग ने कहा है कि नए टैक्स स्लैब को चुनने वाले कर्मचारी धारा 115BAC के तहत मील वाउचर या कूपन पर मिलने वाली टैक्स छूट का फायदा नहीं ले पाएंगे। बता दें कि अभी एक मील पर 50 रुपए की छूट मिलती है।

क्या कहा है आयकर विभाग ने
हाल ही में एक नोटिफिकेशन के जरिए आयकर विभाग ने नया टैक्स स्लैब चुनने वाले कर्मचारियों के लिए नियमों में कुछ बदलाव किया है। कर्मचारियों को मिलने वाली अतिरिक्त सुविधाओं की बात करने वाले नियम संख्या 3 कहता है कि कर्मचारियों को कंपनी की तरफ से मुहैया कराए जाने वाले पेड मील वाउचर पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी, जो सेक्शन 115BAC के सब सेक्शन (5) के तहत मिलती है। ये नया नियम असेसमेंट ईयर 2021-22 से लागू होगा।

क्यों खत्म की मील वाउचर की छूट

आयकर विभाग का मानना है कि ऑफिस के दौरान कर्मचारियों को कंपनी की तरफ से खाना मुहैया कराया जाना पर्सनल बेनेफिट है, ना कि ऑफिस के काम के लिए किया गया कोई खर्च। यही वजह है कि नए स्लैब के तहत फ्री मील वाउचर पर दी जाने वाली टैक्स छूट को खत्म कर दिया गया है।

तो कौन से मील पर छूट मिलेगी?
1- कर्मचारी को ऑफिस की ड्यूटी के दौरान या कंपनी परिसर में दिए जाने वाले मुफ्त खाने और नॉन-एल्कोहल ड्रिंक की कीमत पर टैक्स छूट मिलेगी।

2- काम के दौरान दी जाने वाली चाय और स्नैक्स।

3- कर्मचारी को किसी रिमोट एरिया में ऑफिस की ड्यूटी के दौरान दिए जाने वाले मुफ्त खाने और नॉन-एल्कोहल ड्रिंक की कीमत पर टैक्स छूट मिलेगी।

नियम के तहत मिलने वाली बाकी छूट का क्या?
नोटिफिकेशन के अनुसार ये साफ है कि सिर्फ मील वाउचर पर ही टैक्स छूट को खत्म किया गया है। इसके अलावा नियम संख्या 3 के तहत रेंट फ्री रहने की व्यवस्था, मोटर कार, मुफ्त या छूट वाली शिक्षा सुविधा, टेलीफोन, छूट वाले लोन, गिफ्ट, क्लब मेंबरशिप आदि पहले जैसे ही रहेंगे। यानी नए और पुराने दोनों ही स्लैब में इन पर छूट मिलेगी।

तो फ्रिंज बेनेफिट के लिए कौन सा स्लैब है बेहतर
ये अलग-अलग कर्मचारियों के हिसाब से अलग-अलग हो सकता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है कि कब-कब और कौन से मील पर छूट मिलेगी। यानी अगर मील वाउचर ऑफिस ड्यूटी के दौरान के हैं, तो आप नया टैक्स स्लैब चुन (new income tax vs old income tax) सकते हैं। लेकिन अगर आपके मील वाउचर के साथ ऑफिस ड्यूटी का कोई लेना-देना नहीं है और आपको सिर्फ मील वाउचर के आधार पर ही नए और पुराने टैक्स स्लैब में चुनना है तो आपके लिए पुराना ही टैक्स स्लैब बेहतर है।

Next Post

मुख्यमंत्री ने स्वामी विवेकानंद की पुण्यतिथि पर उन्हें किया नमन

RAIPUR मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने महान दार्शनिक और विख्यात आध्यात्मिक गुरू स्वामी विवेकानंद जी की 4 जुलाई को पुण्यतिथि पर उन्हें नमन किया है।  मुख्यमंत्री बघेल ने स्वामी जी के व्यक्तित्व और कृतित्व को याद करते हुए कहा कि स्वामी जी ने भारत ही नहीं पूरी दुनिया को मानवता के […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।