कोरोना संकट के दौर में ATM को बिना छुए रकम निकालने की हो रही तैयारी

News Desk

नई दिल्ली
पैसा निकालने के लिए लोग बैंक की बजाय एटीएम को तरजीह देते हैं। लेकिन कोरोना संकट के दौर में लोग एटीएम जाने से डर रहे हैं। वहीं दुकानदार नकद लेने या कार्ड को स्वाइप करने में डर रहे हैं। इसे देखते हुए बैंक कॉन्टैक्टलेस एटीएम लाने की तैयारी कर रहे हैं।

एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक ने परीक्षण स्तर पर इसकी शुरुआत कर दी है। सूत्रों का कहना है कि करीब आधा दर्जन बैंक इस तकनीक वाले एटीएम लाने की तैयारी कर रहे हैं। कॉन्टैक्टलेस एटीएम में ग्राहक को स्क्रीन पर क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए बैंक के स्मार्टफोन एप का इस्तेमाल करना होगा। इसके बाद वह अपने मोबाइल पर निकाली जाने वाली राशि और एटीएम पिन डालेगा। फिर मशीन को छुए बगैर नकदी निकाल सकेगा। सबसे पहले बैंक ऑफ इंडिया ने इस तकनीक का परीक्षण किया था। उल्लेखनीय है कि इस साल जनवरी के मुकाबले एटीएम से लेनदेन की संख्या 67 करोड़ से घटकर 56 करोड़ रह गई।

छोटी-छोटी खरीदारी के लिए कार्ड का इस्तेमाल करने और पिन डालने से पिन नंबर चोरी होने का खतरा रहता है। कॉन्टैक्टलेस कार्ड में दो हजार रुपये तक के खर्च के लिए पिन जरूरी नहीं होता। वहीं कॉन्टैक्टलेस एटीएम में भी पिन की जरूरत नहीं होती है। ऐसे में यह दोनों ज्यादा सुरक्षित हैं।

कोरोना का डर इस कदर फैला हुआ है कि ज्यादातर दुकानदार मोबाइल एप से भुगतान को कह रहे हैं। ऐसा नहीं होने पर वह कॉन्टैक्टलेस कार्ड को तरजीह दे  रहे हैं। जिन ग्राहकों के पास यह विकल्प नहीं है उन्हें परेशानी हो रही है। दुकानदारों का कहना है कि सुरक्षा के मद्देनजर ऐसा कर रहे हैं।

मोबाइल एप से भुगतान सेवा देनी वाली कंपनी पेटीएम ने रेस्तरां एवं खान-पान वाले स्थानों पर स्कैन से जरिये ऑर्डर देने और उसका भुगतान करने की तकनीक पेश की है। कंपनी ने देश के 10 राज्यों से रेस्तरां एवं खान-पान से जुड़ी दुकानों पर इस तरह की सुविधा को जरूरी करने के लिए संपर्क किया है।

Next Post

69000 शिक्षक भर्ती : टॉपर्स को नहीं पता राष्ट्रपति का नाम

प्रयागराज काबिलियत: 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में टॉपरों की सूची में शामिल। कुल 150 में से 142 अंक हासिल किए। लेकिन देश के राष्ट्रपति का नाम उसे नहीं पता। यह हैरान करने वाली बात है, लेकिन यही सच है। एएसपी अशोक वेंकटेश ने बताया कि 69 हजार सहायक […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।