Indore हाई कोर्ट में अगले आदेश तक वीडियो कांफ्रेंसिंग से सुनवाई

News Desk

इंदौर
 हाई कोर्ट में फिलहाल आमने-सामने की सुनवाई नहीं होगी। वकीलों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से ही अपनी बात कोर्ट के समक्ष रखना होगी। बार एसोसिएशनों ने इस संबंध में चीफ जस्टिस को पत्र लिखा था। इसके बाद रजिस्ट्रार जनरल राजेंद्र कुमार वानी ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया। दो पेज के आदेश में कहा गया है कि फिलहाल कोई भी केस फाइल भौतिक रूप से स्वीकार नहीं की जाएगी। वकीलों को ई-फाइलिंग के माध्यम से ही अपने दस्तावेज कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत करना होंगे। वे चाहें तो इन्हें ड्राप बाक्स में भी डाल सकते हैं।

बताना होगी अर्जेंट सुनवाई की वजह

आदेश में यह भी कहा है कि अक्सर देखने में आता है कि वकील किसी मामले को अत्यावशक बताकर उसकी तत्काल सुनवाई की मांग करते हैं, लेकिन आवेदन में यह नहीं बताया जाता कि मामले की तत्काल सुनवाई की आवश्यकता क्यों है। अब वकीलों को अर्जेंट सुनवाई का आवेदन लगाते वक्त इस बात की विस्तार से जानकारी देना होगी कि मामले में तत्काल सुनवाई की जरूरत क्यों हैं। जिन आवेदनों में इस बात की विस्तार से जानकारी नहीं होगी उन पर विचार नहीं किया जा सकेगा।

Next Post

जिला प्रशासन के निर्देश के बाद भी नहीं रुका कालाबाजारी

रायपुर। कालाबाजारी करने वाले सब लॉकडाउन लगने का इंतजार कर रहे थे ऐसा लगा रहा है जिस प्रकार से रोजाना 10 रुपये किलो में बिकने वाला गोभी आज सुबह 50 रुपये किलो में बिका, वहीं 30 की गोभी 60, 15 की बैगन 30, 15 की लौकरी 30, 30 भिंडी 50, […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।