DAVV Indore : ऑनलाइन पंजीयन के अंतिम चार दिन

News Desk

 इंदौर
 बीए, बीकॉम और बीएससी समेत अन्य स्नातक पाठ्यक्रम में ऑनलाइन पंजीयन के लिए अब सिर्फ चार दिन शेष रह गए हैं। शहर में अब तक करीब 90 हजार विद्यार्थियों ने अलग-अलग पाठ्यक्रम में पंजीयन करवाया है।

इनमें से 50 फीसद विद्यार्थी ही दस्तावेज का सत्यापन करा सके हैं। विद्यार्थियों के मुताबिक अभी हेल्प सेंटर पर भीड़ रहती है। साथ ही दस्तावेज जांचने में 10 से 12 मिनट लग रहे हैं। कई सेंटर पर कम हेल्प डेस्क हैं।

दो दर्जन से ज्यादा स्नातक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए पांच से 20 अगस्त के बीच पंजीयन की व्यवस्था रखी गई है। मप्र बोर्ड, सीबीएसई और आइसीएसई से 12वीं पास हुए विद्यार्थी दाखिले के लिए आवेदन करने में जुटे हैं। स्नातक प्रथम वर्ष में दाखिला लेने वालों की संख्या करीब तीन लाख रहती है।

28 अगस्त को मेरिट लिस्ट जारी होगी। बाद में कॉलेज अपना कटऑफ घोषित करेंगे। प्रवेश प्रक्रिया का दूसरा और तीसरा चरण कॉलेज स्तरीय काउंसिलिंग का रखा है।

बढ़ाएं हेल्प डेस्क

अतिरिक्त संचालक, उच्च शिक्षा डॉ. सुरेश सिलावट ने कहा है कि विद्यार्थियों की संख्या को देखते हुए हेल्प सेंटर पर ज्यादा से ज्यादा डेस्क लगाई जाए। विद्यार्थी इंदौर में आठ कॉलेजों में दस्तावेज की जांच करवा सकते हैं। प्रत्येक कॉलेज में पांच से आठ डेस्क रखने को कहा गया है। इसके लिए वरिष्ठ प्राध्यापक को जिम्मेदारी दी गई है।

Next Post

कंटेनमेंट एरिया का शतप्रतिशत सैम्पल करायें - चंबल कमिश्नर श्री मिश्रा

मुरैना  कोविड के मरीज निकलने पर उस क्षेत्र को कंटेनमेंट एरिया घोषित कर दिया जाता है। कंटेनमेंट एरिया में निवासरत शतप्रतिशत लोंगो के सैम्पल लिये जायें। तभी कोरोना पर काबू पाया जा सकता है। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंस एवं मास्क का उपयोग (फेसकवर) करना अतिआवश्यक है। यह निर्देश चंबल […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।