सोशल डिस्टेंसिंग भूल, कोरोना से बेखौफ भीड़ तालाब में मछलियां पकड़ने उमड़ पड़ी

News Desk

इंदौर
मध्य प्रदेश के इंदौर में जहां कोरोना का संक्रमण दिनों-दिन तेज होते हुए संक्रमितों की संख्‍या 3 हजार के पार कर गई है. इसके बावजूद लोग फिर भी समझने को तैयार नहीं हैं. इंदौर शहर से करीब 50 किमी दूर यशवंत नगर तालाब में मछलियां पकड़ने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग पहुंच गए. यहां मछली पकड़ने वालों ने ना तो मास्क पहन रखे थे और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा.

कोरोना से बेखौफ भीड़ तालाब में उछलतीं मछलियां पकड़ने के लिए उमड़ पड़ी. प्रतिबंध के बावजूद लोग यहां मछलियां पकड़ने पहुंचे, लेकिन जब पुलिस और प्रशासन के टीम यहां पहुंची तो उन्हें देखकर भीड़ में शामिल लोग भाग खड़े हुए. नायब तहसीलदार जगदीश चंद्र वर्मा के मुताबिक प्रतिबंध के बावजूद मछलियां पकड़ने की जानकारी उन्हें मिली थी. इस बारे में दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी.

इंदौर के पास मानपुर का ये यशवंत नगर तालाब 400 साल पुराना है. इसे यशवंत राव होल्कर की याद में रानी अहिल्याबाई होल्कर ने बनवाया था. इस तालाब से करीब 300 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती है और रोजाना करीब 1 टन मछली निकलती है लेकिन लॉकडाउन के चलते फिलहाल मछलियों का कारोबार बंद है. इसी का फायदा उठाकर कोरोना के संकट के बीच नियमों का उल्लंघन कर सैकड़ों की संख्या में लोग जाल लेकर मछली पकड़ने पहुंच गए. आसपास के करीब 70 गांवों के लोग तालाब के आसपास मंडराते दिखाई दिए.

इन दिनों इलाके में तेज गर्मी पड़ रही है इसलिए तालाब में भी पानी का लेबल कम होने की वजह से मछलियां भी जान बचाने के लिए उछलकूद करती दिखाई दे रहीं हैं. वहीं किनारे खड़े लोग शारीरिक दूरी के नियमों को तोड़कर गलतियां करने में जुटे हुए हैं जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है. इंदौर जिले में सबसे ज्यादा संक्रमण होने की वजह से ये रेड जोन में है. यहां सारी गतिविधियां बंद हैं. लॉकडाउन को थोडा़ सा शिथिल किया गया है जिसका फायदा उठाते हुए लोग फिर भीड़ इकट्ठा करने में लग गए हैं जबकि रेड जोन में ज्यादा एहितयात बरतने की जरूरत है.

Next Post

कलेक्टरेट कर्मियों ने झीरम के शहीदों को दी श्रद्धांजलि

रायपुर बस्तर की झीरम घाटी में 25 मई 2013 को नक्सल हिंसा में शहीद हुए वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों, सुरक्षाबल के जवान और विगत वर्षो में नक्सल हिंसा में शहीद सभी भाइयो-बहनों की स्मृति में 25 मई को प्रतिवर्ष  झीरम श्रंद्धाजलि दिवस के रूप में मनाए जाने का निर्णय लिया गया है। […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।