राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद दो दिन जबलपुर में, मां नर्मदा की संध्या महाआरती में होंगे शामिल

News Desk

जबलपुर
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज से दो दिन मध्य प्रदेश की संस्कार राजधानी जबलपुर प्रवास पर रहेंगे. वे सुबह 9:40 पर डुमना एयरपोर्ट पहुंचेंगे.  विमानतल पर प्रदेश के मुख्यमंत्री उनकी अगवानी करेंगे. इसके बाद राष्ट्रपति सुबह 11 बजे ज्यूडिशियल एकेडमीज़ डायरेक्टर्स रिट्रीट के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल होंगे. इस कार्यक्रम का आयोजन मानस भवन में होगा. करीब 1 घंटे रुकने के बाद वे 12 बजे सर्किट हाउस के लिए रवाना होंगे.

जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रपति शाम 6:30 बजे सर्किट हाउस से नर्मदा तट ग्वारीघाट के लिए रवाना होंगे और यहां मां नर्मदा की संध्या महाआरती में शिरकत करेंगे. वे शाम शाम 7:30 बजे के बाद मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के लिए होंगे रवाना और रात्रि भोज के बाद करीब 9 बजे सर्किट हाउस में वापस होंगे.

राष्ट्रपति के कार्यक्रम के मद्देनजर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान  सुबह करीब 8.45 बजे शासकीय विमान से डुमना एयरपोर्ट पहुंचे. यहां उन्होंने बादाम का पौधा रोपा. एयरपोर्ट पर प्रदेश के आयुष एवं जल संसाधन राज्य मंत्री श्रामकिशोर कांवरे और विधायक अशोक रोहाणी ने उनका स्वागत किया. इस अवसर पर संभागायुक्त बी. चन्द्रशेखर, आईजी पुलिस भगवत सिंह चौहान, कलेक्टर कर्मवीर शर्मा एवं पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा भी मौजूद थे.

बता दें, रात्रि विश्राम के बाद 7 मार्च को राष्ट्रपति सुबह करीब 10 बजे दमोह के लिए रवाना होंगे. दमोह में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के बाद दोपहर करीब 1:30 बजे जबलपुर डुमना एयरपोर्ट आएंगे और यहां से दोपहर 2 बजे दिल्ली रवाना होंगे.

Next Post

पशुपालन मंत्री पटेल ने वृद्धाश्रम में मनाया सी.एम. का जन्म-दिन

भोपाल सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण और पशुपालन एवं डेयरी विकास मंत्री  प्रेम सिंह पटेल ने मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान का जन्म-दिन भोपाल के शाहजहाँनाबाद स्थित 'आसरा वृद्धाश्रम' में मनाया। उन्होंने बुजु़र्गों से वार्तालाप कर उनकी समस्याएँ जानीं और विभागीय अधिकारियों को वृद्धाश्रम में सभी आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध कराने के […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।