राजधानी में आज से स्वस्थ आहार सेवा योजना की शुरुआत

News Desk

भोपाल
 राजधानी भोपाल (Bhopal) में सरकार ने आज से कोरोना मरीज़ों (Corona Patients) के लिए स्वस्थ आहार सेवा योजना शुरू की. ये सुविधा उन अस्पतालों के लिए है जहां कोरोना मरीजों के लिए खाने का इंतज़ाम नहीं है. योजना के तहत सरकार शहर की सामाजिक संस्थाओं की मदद से मरीजों को पौष्टिक खाना उपलब्ध कराएगी.

भोपाल में इस योजना को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया है. यदि सब ठीक चला तो फिर इसे बाकी जिलों में लागू किया जाएगा.

कोविड मरीज़ों के लिए खाना

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कोविड मरीजों को सरकार की तरफ से निशुल्क भोजन सेवा उपलब्ध कराई जा रही है. जिन अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों को भोजन नहीं दिया जाता उन अस्पतालों में खाना पहुंचाया जाएगा.
110 अस्पतालों में भोजन सुविधा नहीं

शहर के 110 अस्पतालों में खाने की सुविधा नहीं है. विश्वास सारंग ने कहा मरीज के परिवार वाले जब अस्पताल में खाना देने जाते हैं तो उन्हें भी संक्रमण का खतरा बना रहता है. ऐसे में कोरोना की चेन तोड़ने के लिए यह योजना कारगर साबित होगी.

मरीज़ों के तीमारदारों को भोजन

सरकार इस योजना में शहर की बड़ी संस्थाओं और एनजीओ की मदद ले रही है. एम्स, जेके, पीपुल्स हमीदिया सहित कई अस्पतालों में मरीजों को खाना मुहैया कराया जा रहा है. जो मरीज बाहर से आए हैं उनके परिवार भी उनके साथ ही भोपाल में डेरा डाले हुए हैं. ऐसे में शहर की कई सामाजिक संस्थाएं इन लोगों तक खाने के पैकेट पहुंचा रही हैं. रोजाना संस्थाओं की गाड़ी अस्पतालों के बाहर देखी जा सकती है. जरूरतमंद लोगों को खाने के पैकेट दिए जाते हैं ताकि उन्हें भटकना न पड़े.

Next Post

लॉकडाउन में भूखे-प्‍यासे पशुओं को खाना खि‍ला रही लखनऊ पुलिस, कहा- ये भी हमारे म‍ित्र और बंधु हैं

लखनऊ कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए उत्‍तर प्रदेश में कर्फ्यू लागू है। इस दौरान केवल जरूरी सेवाओं की छूट है। लोगों के बेवजह घरों से बाहर न‍िकलने पर पाबंदी है। कर्फ्यू के दौरान आवारा जानवर भी भूखे प्‍यासे हैं। ऐसे में लखनऊ पुलिस ने इन आवारा पशुओं को […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।