महिलाओं के नाम पर संपत्ति खरीदने पर रजिस्ट्री में 2% की छूट

News Desk

ग्वालियर
महिलाओं के नाम पर संपत्ति खरीदने पर अब पंजीयन शुल्क में सीधे 2 प्रतिशत की छूट मिलेगी। इसी प्रकार से महिलाओं के नाम पर पट्टे के पंजीयन शुल्क को भी 75 प्रतिशत से घटाकर सीधे 35 प्रतिशत कर दिया गया है। हालांकि इसमें शर्त यह है कि पट्टा 30 वर्ष से पुराना होना चाहिए। मध्यप्रदेश वाणिज्य कर विभाग के उपसचिव आरपी श्रीवास्तव ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही बुधवार से यह छूट मिलना भी प्रारंभ हो गई है।
ऐसे समझें इससे फायदा: उदाहरण स्वरूप यदि अभी आप कुरथरा रोड पर 100 वर्ग मीटर का भू-खंड खरीदते हैं तो उसकी रजिस्ट्री के लिए 1800 रुपए प्रति वर्गमीटर के मान से 9.5 प्रतिशत यानि 17 हजार 100 रुपए स्टांप शुल्क देना होता है। इसके अलावा 3 प्रतिशत पंजीयन शुल्क के रुप में 5400 रुपए देना होते हैं। लेकिन यही प्रॉपर्टी यदि आप अपनी मां, बहन या पत्नी के नाम खरीदें तो आप को पंजीयन शुल्क 1 प्रतिशत देना होगा। यानि सीधे 3600 रुपए की छूट मिलेगी।

दो फीसदी छूट के मायने
पंजीयन कार्यालय से जुड़े लोगों की मानें तो सरकार के इस आदेश से महिलाओं के नाम पर संपत्ति बढ़ेगी। कारण यह है कि बड़े सौदों में दो प्रतिशत की छूट काफी मायने रखती है। ऐसे में अब लोग स्वयं के बजाय अपनी मां, बहन अथवा पत्नी के नाम पर संपत्ति खरीदना पसंद करेंगे। उम्मीद की जा रही है कि वर्तमान में महिलाओं के नाम पर संपत्ति का जो आंकड़ा अभी 10 प्रतिशत भी नहीं है, वह बढ़कर 40 प्रतिशत तक पहुंच सकता है।

Next Post

सब्जी व किराना तो दोबारा मिल जायेगी लेकिन जिंदगी नहीं...

रायपुर। कोरोना पर लगाम लगाने के लिए जिला प्रशासन ने रायपुर जिले में लॉकडाउन का ऐलान किया है। शुक्रवार शाम 6 बजे से लॉकडाउन का आदेश लागू हो जाएगा। इससे पहले आज बाजारों में लोगों की बड़ी लापरवाही नजर आई। राजधानी के सब्जी बाजार में सब्जी खरीदने के लिए लोगों […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।