बच्चों को गुणवत्तापूर्ण स्कूली शिक्षा देने संकल्पित हों शिक्षक – राज्य मंत्री परमार

News Desk

भोपाल
स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) इंदर सिंह परमार ने शिक्षकों से आव्हान किया है कि वे बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिये कृत-संकल्पित हों। शिक्षकों पर भावी पीढ़ियों के निर्माण का गुरुतर दायित्व है। परमार सोमवार को मंत्रालय में आयोजित वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्री-प्रायमरी कक्षाओं से शासकीय विद्यालयों का संचालन प्रारंभ किये जाने से हम पालकों को शासकीय विद्यालयों की ओर आकृष्ट कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा संचालित किये जा रहे प्री-प्रायमरी स्कूल के लिये विस्तृत कार्य-योजना तैयार की जाये। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री ने शिक्षकों द्वारा पालकों के साथ सार्थक संवाद करने की आवश्यकता को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि इसके लिये अभिभावक-शिक्षक बैठकों का नियमित अंतराल पर आयोजन किया जाना चाहिये।

राज्य मंत्री परमार ने कहा कि जब विद्यार्थी कक्षा-8 उत्तीर्ण कर कक्षा-9 में प्रवेश लेता है, तब सर्वथा नया और भिन्न परिवेश उसके सामने होता है। ऐसे में बच्चों को शिक्षकों के स्नेहयुक्त मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। इस संबंध में कक्षा-9 के विद्यार्थियों के लिये संचालित ब्रिज कोर्स जैसी योजनाएँ सार्थक सिद्ध हो सकती हैं। विद्यार्थियों के हित में इस प्रकार की योजनाओं के लिये पहल की जानी चाहिये।

बैठक में प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी, आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती जयकियावत, आयुक्त राज्य शिक्षा केन्द्र लोकेश कुमार जाटव, उप सचिव के.के. द्विवेदी एवं प्रमोद सिंह तथा अपर संचालक डॉ. कामना आचार्य और डी.एस. कुशवाहा भी मौजूद थे।

Next Post

राज्यपाल लालजी टंडन मेरे बहुत अच्छे मार्गदर्शक थे : सीएम शिवराज

भोपाल मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने मार्गदर्शक के तौर पर याद किया. सीएम ने अपनी श्रद्धांजलि में याद करते हुए कहा-उन्होंने हमेशा हम लोगों को सही रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित किया. सीएम शिवराज सिंह चौहान ने राज्यपाल लालजी टंडन के […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।