प्रदेश में 5 हजार आदिवासी युवाओं को दिलाया जायेगा कौशल उन्नयन प्रशिक्षण

News Desk

भोपाल

प्रदेश में इस वर्ष आदिम जाति कल्याण विभाग के अन्तर्गत संचालित मध्यप्रदेश रोजगार एवं प्रशिक्षण परिषद (मेपसेट) के माध्यम से 5 हजार आदिवासी वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवक-युवतियों को कौशल उन्नयन विकास का प्रशिक्षण दिलाया जायेगा। यह प्रशक्षिण केन्द्र सरकार के कौशल उन्नयन विकास मंत्रालय द्वारा निर्धारित मापदंडों के अनुसार दिलाया जायेगा।

मेपसेट द्वारा पिछले दो वर्षों में 20 हजार से अधिक आदिवासी युवाओं को रोजगारमूलक कौशल विकास का प्रशिक्षण दिलाया जा चुका है। प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों में 6 हजार 200 आदिवासी युवतियाँ भी हैं। मेपसेट द्वारा प्रशिक्षण प्राप्त 3,400 युवाओं को स्वयं का रोजगार शुरू करने के लिये आदिवासी वित्त विकास निगम के माध्यम से 91 करोड़ 62 लाख रुपये का ऋण व अनुदान उपलब्ध कराया गया है।

मेपसेट के प्रशिक्षण कार्यक्रम के संचालन के लिये मेप आईटी के माध्यम से पोर्टल डेव्हलप कराया जा रहा है। पोर्टल के माध्यम से प्रशिक्षण कार्यक्रमों की मॉनीटरिंग, रजिस्ट्रेशन और स्व-रोजगार की समस्त प्रक्रियाएँ ऑनलाइन होंगी। इसके साथ ही मेपसेट द्वारा वेबसाइट भी तैयार की जा रही हैं। इस वेबसाइट में जनजाति वर्ग के युवाओं के उत्थान के लिये संचालित योजनाओं की जानकारी इस वेबसाइट पर उपलब्ध होगी। प्रशिक्षण कार्यक्रमों के मूल्यांकन के लिये नार्बाड के सहयोगी प्रोजेक्ट मेनेजमेन्ट यूनिट को अनुबंधित किया गया है।

Next Post

निष्ठा विद्युत मित्र योजना से महिलाएं हुईं आत्मनिर्भर

भोपाल आत्म निर्भर मध्यप्रदेश की दिशा में मध्यक्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा अपने  कार्यक्षेत्र के भोपाल, नर्मदापुरम्, ग्वालियर एवं चंबल संभाग के 16 जिलों में महिला आत्म निर्भरता के लिए विशेष योजना संचालित की है। इस योजना का नाम ‘‘निष्ठा विद्युत मित्र योजना‘‘ रखा गया है। राज्य ग्रामीण अजीविका मिशन […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।