पीढ़ियों का ज्ञान प्रतियोगिता में बुजुर्ग साझा करेंगे अनुभव

News Desk

भोपाल 
लॉकडाउन अवधि में संभावित लर्निंग लॉस को ध्यान में रखते हुए शिक्षा विभाग द्वारा डिजिटल लर्निंग के विभिन्न माध्यमों का उपयोग कर शैक्षणिक कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिये कई कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। अभिभावकों में बच्चों की शिक्षा के प्रति रूचि जागृत करने के प्रयास के क्रम में 17 मई से प्रारंभ कार्यक्रम के द्वितीय सप्ताह में 'पीढ़ियों का ज्ञान' प्रतियोगिता में विद्यार्थियों के परिवार के बुजुर्ग सहभागिता करेंगे।

पीढ़ियों का ज्ञान
'पीढ़ियों का ज्ञान' विषय पर द्वितीय सप्ताह में 24 से 30 मई तक आयोजित होने वाली प्रतियोगिता में विद्यार्थियों के घर के वरिष्ठ सदस्य जैसे- दादा-दादी, नाना-नानी, ताऊ-ताई भाग लेंगे। वरिष्ठ सदस्य एक से दो पेज में अपने जीवन के कोरोना जैसी आपदा के अनुभवों को लिखकर भेजेंगे जिनका उन्होंने पूर्व में सामना किया हो। वर्तमान लॉकडाउन में उन्होंने कैसे अपने घर/परिवार के विद्या‍र्थी बच्चों को अनुभवों की सीख प्रदान की या उन्हें शैक्षिक प्रोत्साहन प्रदान किया। प्रतियोगिता में प्रविष्टि के लिये प्रतिभागी अपने एक फोटो और व्यक्तिगत विवरण जैसे- नाम, पदनाम, पदस्थ संस्था/स्कूल, स्मार्ट मोबाइल नम्बर एवं पते के साथ व्हाट्स एप नम्बर 9968556947 पर संबंधित प्रतियोगिता की अंतिम तिथि तक प्रेषित कर सकेंगे।
 

Next Post

मनरेगा में 26.10 लाख से अधिक श्रमिकों को लॉकडाउन के दौरान मिल रहा रोजगार

रायपुर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निदेर्शों के अनुरूप ग्रामीणों को गांवों में ही रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश में बड़े पैमाने पर प्रारंभ किए गए मनरेगा के कार्यों में 26 लाख से अधिक जरूरतमंद मजदूरों को काम मिला है। बघेल ने गांवों में मनरेगा के जॉब कार्डधारी अधिक से […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।