धुंध ने नरम किए चढ़ते पारे के तेवर

News Desk

ग्वालियर
चमकते सूरज की तपिश के बीच हल्की धुंध की चादर आने से अंचल के अधिकांश स्थानों पर पारे के तेवर कुछ नरम हुए हैं। इसके असर से बीते 24 घंटों के दौरान ग्वालियर में अधिकतम पारा 1.8 डिग्री कम रहा जबकि न्यूनतम पारे में 2.8 डिग्री गिरावट दर्ज हुई है। हालांकि  फिलहाल ग्वालियर के साथ आसपास के जिलों के मौसम में कोई बड़ा बदलाव आने के आसार नहीं हैं।

इसके बावजूद अगले 24 घंटों के दौरान पूर्वी मध्य प्रदेश में और आज पश्चिम मध्य प्रदेश में किन्हीं किन्हीं क्षेत्रों  में हीट वेव की स्थिति की संभावना बनी हुई है। मौसम विभाग के मुताबिक 14 अप्रैल तक मध्य प्रदेश में शुष्क मौसम बने रहने की संभावना है, पर आगामी 24 घंटों के दौरान अंचल के तापमानों में विशेष परिवर्तन नहीं होने की संभावना है। इसके बाद ग्वालियर और चंबल संभाग के ज्यादातर जिलों के अधिकतम तापमानों में 2 से 4 डिग्री की गिरावट आने एवं गर्मी से रहत मिलने की संभावना बन सकती है।

गौरतलब है कि गत दिवस पूर्वी मध्यप्रदेश के छिन्दवाड़ा, नौगांव एवं रीवा में हीट वेव जैसी स्थिति रही तथा पूर्वी मध्य प्रदेश के जिलों में तापमान 2 से 5 डिग्री सेल्सियस तकअधिक रहे। वहीं पश्चिमी मध्य प्रदेश में भी अधिकतम तापमान 2 से 4 डिग्री सेल्सियस अधिक रहे। मौसम विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों केअनुसार प्रदेश के खरगौन में 43.2 डिग्री अधिकतम तापमान के साथ यह सम्पूर्ण भारत में सबसे ज्यादा अधिकतम तापमान दर्ज हुआ। वहीं अब आमतौर पर मौसम शुष्क बना रहेगा।
   

Next Post

छिंदवाड़ा में 3 दिन में 51 लोगों की मौत, कमलनाथ ने ली बैठक

छिंदवाड़ा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के छिंदवाड़ा में कोरोना के हालात चिंताजनक हो चले हैं. महाराष्ट्र सीमा से लगा होने के कारण यहां कोरोना ने तेजी से पैर पसारे. तीन दिन में 51 लोगों की मौत हो चुकी है. स्थिति पर नियंत्रण के लिए यहां आज रात से अगले […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।