डॉ. सोलंकी का इस्तीफा मंजूर, राज्यसभा चुनाव का रास्ता साफ

News Desk

भोपाल। राज्य सरकार ने भाजपा के राज्यसभा प्रत्याशी डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी का सहायक प्राध्यापक पद से इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने आज सुमेर सिंह सोलंकी द्वारा दिए गए त्यागपत्र को उचित फार्मेट और सही प्रक्रिया मानते हुए स्वीकार कर लिया है। इसके बाद सुमेर सिंह सोलंकी को लेकर लगाई जा रही सारी अटकलें खत्म हो गई हैं। सोलंकी अपने इस्तीफे को लेकर हाईकोर्ट भी गए थे। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि चूंकि सुमेर सिंह सोलंकी द्वारा त्यागपत्र नियमानुसार प्रस्तुत किया गया साथ ही एक माह का वेतन भी चालान के माध्यम से जमा कराया गया है इसलिए उनका त्यागपत्र स्वीकार किया जाता है साथ ही मध्यप्रदेश शासन पेंशन नियम 1976 के निहित प्रावधानों के तहत डॉ. सोलंकी सहायक प्राध्यापक, इतिहास विभाग शहीद भीमा नायक शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय बड़वानी द्वारा प्रस्तुत त्याग पत्र आज से स्वीकृत किया जाता है। चूंकि डॉ. सोलंकी की सेवा अवधि 20 वर्ष से कम होने के कारण मप्र सिविल सेवा पेंशन नियम 1976 के प्रावधानों के तहत पेंशन की पात्रता नहीं होगी।

Next Post

कोरोना नहीं डरोना वायरस से ग्रसित कांग्रेस:नरोत्तम

भोपाल। पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि कोरोना नहीं डरोना वाइरस से ग्रसित है कांग्रेसी। इसलिए विधानसभा सत्र की तारीख बढ़ाने की मांग कर रहे है। उन्होंने कहा कि जब कमलनाथ सरकार के सभी मंत्री इस्तीफा दे चुके है तो कैबिनेट बैठक कैसे हो रही है। सिंधिया के […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।