डॉ नीरज पाठक हत्याकांड में पत्नी निकली कातिल

News Desk

छतरपुर
 सिविल लाइन छतरपुर पुलिस ने शहर के चर्चित मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ नीरज पाठक हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया। डा पाठक की हत्या के मामले में पुलिस ने उनकी पत्नी काे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस पूछताछ में पत्नी ने बताया कि उसने एक वीडियाे देखा था। जिसमें बताया था कि खाने में जहर देने के बाद यदि दाे दिन तक शव काे रखा रहने दिया जाए ताे पाेस्टमार्टम में जहर ट्रैस नहीं हाेता है। इसलिए 29 अप्रैल काे डा पाठक काे खाने में जहर देने के बाद दाे दिन तक शव काे रखे रहने दिया, इसके बाद पुलिस काे सूचना दी। इसी वजह से पीएम में जहर से माैत हाेना नहीं बताया गया था।

डा नीरज पाठक हत्याकांड में पुलिस ने उनकी प्रोफ़ेसर पत्नी ममता पाठक को गिरफ्तार कर लिया है। डॉ पाठक की हत्या के बाद से ही उनकी पत्नी पर हत्या करने की शंका थी। पूरे घटनाक्रम की कड़िया सबूत थी कि डॉ पाठक को उनकी पत्नी ने ही मौत के घाट उतारा है। 7 मई को पुलिस ने ममता पाठक को हिरासत में ले लिया था। शनिवार को पुलिस ने अधिकृत तौर पर ममता पाठक की गिरफ्तार की पुष्टि कर दी है। ममता पाठक और उनके पति नीरज पाठक के बीच पिछले 11 साल से विवाद चल रहा था। वे दोनों अलग रहते थे। सितम्बर 2020 में ममता पाठक और उनका बेटा एक बार फिर डॉक्टर नीरज पाठक के साथ उनके लोकनाथपुरम स्थित निवास पर रहने लगे थे। ममता पाठक अपने पति के चरित्र पर संदेह करती थीं, इसी को लेकर पिछले11 साल में दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ तीन बार पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। नीरज पाठक की मौत के पहले ममता पाठक ने उनके खिलाफ सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली थी, जिसमें डा नीरज पाठक पर उन्हें व उनके बेटे काे जहरीला पदार्थ खिलाने का आरोप लगाया था। हत्याकांड के बाद रिश्तेदारों ने नीरज पाठक को कमरे में बंद कर प्रताड़ित करने, खाना न देने की बात पुलिस काे बताई थी। पुलिस ने नीरज पाठक हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी ममता पाठक ने स्वीकार किया है कि उसने नीरज पाठक के खाने में जहरीला पदार्थ मिलाया। खाना खाकर नीरज जब अपने कमरे में अचेत हो गया तो वह दो बार देखने गई कि मौत हुई कि नहीं। इसके बाद नीचे से बिजली का एक्सटेंशन बोर्ड लेकर उस कमरे में पहुंची जहां नीरज अचेत अवस्था में पड़े थे, उस बोर्ड से नीरज काे करंट लगाया। नीरज की मौत होने के बाद वह अपने बेटे को लेकर झांसी गई। रास्ते में बेतवा नदी में वह एक्सटेंशन बोर्ड फेंक दिया।

Next Post

Oxygen किल्लत पर सुप्रीम कोर्ट सख्त,टास्क फोर्स का किया गठन

नई दिल्ली कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान विभिन्न अस्पतालों में हो रही ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को 12 सदस्यीय टास्क फोर्स का गठन किया है। जस्टिस डी. वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली बेंच द्वारा बनाई गई इस नेशनल टास्क फोर्स का काम […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।