कोरोना के बढ़ते संकट में ड्यूटी करने से बच रहे नए डॉक्टर, कार्रवाई की तैयारी

News Desk

 भोपाल
कोरोना के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने के कारण अस्पतालों में बेड, वेंटिलेटर और इलाज करने के लिए डॉक्टर्स की कमी पड़ रही है। इंदौर और भोपाल के सरकारी मेडिकल कॉलेजों से इंटर्नशिप पूरी करने वाले 235 डॉक्टर्स की बॉन्ड पोस्टिंग जिलों में सीएमएचओ के अधीन की गई है, लेकिन इनमें से 79 फीसदी डॉक्टर्स ने अपनी ज्वाइनिंग ही नहीं दी। 30 मार्च को 235 डॉक्टर्स को जिलों का आवंटन करने के बावजूद 20 दिनों में ज्वाइनिंग न देने वाले 186 डॉक्टर्स के खिलाफ कार्रवाई के लिए स्वास्थ्य  आयुक्त आकाश त्रिपाठी ने चिकित्सा शिक्षा आयुक्त निशांत बरवडेÞ को पत्र लिखा है।

 भोपाल में 48, इंदौर में 32, सीहोर में 14, उज्जैन में 13,  रतलाम में नौ, बडवानी में आठ, बुरहानपुर में सात, खंडवा, देवास में छह-छह,  राजगढ़, बैतूल में पांच-पांच, होशंगाबाद, खरगोन, शाजापुर, विदिशा, नीमच में चार-चार, धार, रायसेन में तीन-तीन, हरदा, मंदसौर में दो-दो,  झाबुआ, अलीराजपुर में एक-एक  डॉक्टर्स ने अब तक ज्वाइनिंग नहीं दी है।  अब इनके खिलाफ बॉन्ड नियमों का पालन न करने पर कार्रवाई होगी।

इंदौर के एमवाय मेडिकल कॉलेज से पास आउट होने वाले 125 और भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज से इंटर्नशिप पूरी करने वाले 110 डॉक्टर्स की 30 मार्च को अनिवार्य बंधपत्र ग्रामीण सेवा के तहत बॉन्ड पोस्टिंग की गई थी। इन्हें 15 दिन में ज्वाइनिंग देनी थी। एक साल की अनिवार्य ग्रामीण सेवाएं बॉन्ड पीरियड में देनी होतीं हैं, लेकिन कोरोना के संकट के चलते अब तक 79 फीसदी डॉक्टर्स ने ज्वाइन नहीं किया।

Next Post

केजरीवाल के पीएम नरेंद्र मोदी की मीटिंग में सवालों पर बोला केंद्र, निचले स्तर की राजनीति कर रहे

नई दिल्ली कोरोना संकट से निपटने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी की ओर से बुलाई गई मुख्यमंत्रियों की बैठक के बाद आरोप-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया है। पीएम नरेंद्र मोदी से इस मीटिंग में अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी से ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाते हुए कहा था […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।