ईओडब्ल्यू ने इंजीनियर की 30 करोड़ की संपत्ति कुर्क ,मिली सोने की सिल्लियां

News Desk

जबलपुर
जल संसाधन विभाग में पदस्थ रहे सेवानिवृत्त कार्यपालन यंत्री (इंजीनियर) के घर पर EOW ने बड़ी कार्रवाई की है। छापेमारी के दौरान करोड़ों की रुपये की काली कमाई का खुलासा हुआ है। ईओडब्ल्यू ने अपनी कार्रवाई के दौरान रिटायर्ड कार्यपालन यंत्री कोदू प्रसाद तिवारी के जबलपुर और सतना के घरों पर एक साथ छापेमारी की है। बुधवार को इंजीनियर का बैंकों में स्थित लॉकर को खोला जाएगा।

छापेमारी के दौरान रिटायर्ड इंजीनियर कोदू प्रसाद तिवारी के पास से लाखों रुपए नगद सहित कई किलो सोने की सिल्लियां और जेवरात भी मिले हैं। कहा जा सकता है कि 2020 में ईओडब्ल्यू की ये सबसे बड़ी कार्रवाई है। मंगलवार को कार्रवाई के दौरान ईओडब्ल्यू ने इंजीनियर की 30 करोड़ की संपत्ति कुर्क की है।

EOW एसपी नीरज सोनी ने कहा कि कोदू प्रसाद तिवारी ने नौकरी के दौरान आय से अधिक की संपत्ति बनाई है। अभी तक की जांच में तिवारी और उनके परिजनों के खाते में लाखों रुपए मिले हैं। इसके अलावा कई मकान और पेट्रोल पंप भी तिवारी के नाम मिले हैं। कोदू प्रसाद तिवारी के पास पेट्रोल पंप और प्लॉट के अलावा कई चार पहिया वाहन, ट्रैक्टर, पेट्रोल टैंकर और दो पहिया वाहन भी मिले हैं।

उन्होंने बताया कि ईओडब्ल्यू आगे कार्यवाई में कोदू प्रसाद तिवारी और उनके परिजनों के बैंक खाते की भी जांच करेगी। अभी तक कि कार्रवाई में ईओडब्ल्यू ने कोदू प्रशाद के पेट्रोल पंप सील कर दिए है, इसके अलावा सोने की सिल्लियां सहित जेवरात भी बरामद किए हैं।

कहा जा सकता है कि मध्यप्रदेश में ईओडब्ल्यू की यह एक बड़ी कार्यवाई है। इस कार्रवाई के बाद से अन्य विभागों में हड़कंप मच गया है। फिलहाल अब देखना होगा कि आगे की कार्यवाई में ईओडब्ल्यू के हाथ क्या लगता है।

Next Post

सड़क निर्माण के बहाने नेपाल की जमीन पर कब्जा कर रहा चीन

काठमांडू भारत से सीमा विवाद (India Nepal Border Dispute) के बीच जिस चीन के साथ नेपाल के नेता बैठक कर रहे हैं, उसी ने तिब्बत में सड़क निर्माण के बहाने नेपाल की जमीन पर कब्जा कर रखा है। सरकार की एक रिपोर्ट से इसे लेकर खुलासा हुआ है। नेपाल सरकार […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।