इंदौर हाईकोर्ट में 52 कर्मचारियों कोरोना पॉजिटिव

News Desk

इंदौर
कोरोना के संक्रमण से जूझ रहे इंदौर (Indore) में अब हाईकोर्ट (High Court) का स्टाफ भी चपेट में आ गया है. हाईकोर्ट की इंदौर बेंच के 52 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. एक ही दिन में 35 कर्मचारियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से हड़कंप मच गया है. पिछले 5 दिन में 23 नवंबर को 5 मरीज, 24 नवंबर को 3 और 25 नवंबर को 9 मरीज मिले थे. उसके बाद शुक्रवार को एक साथ 35 कर्मचारी संक्रमित मिले.हालांकि कोई भी जज संक्रमित नहीं हुआ है. कोरोना संक्रमितों में प्यून-क्लर्क से लेकर सुरक्षा कर्मचारी शामिल हैं. इतनी बड़ी संख्या में कर्मचारियों के संक्रमित होने से जज और वकील भी सकते में हैं.

इंदौर में कोरोना के लगातार बिगड़ते हालात के बाद अब उच्च न्यायालय एक सप्ताह के लिए बंद करने की मांग की गई है. हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष अमर सिंह राठौर ने इस संबंध में मुख्य न्यायाधीश को पत्र भी लिखा है. उच्च न्यायालय में इन दिनों सुनवाई भले ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चल रही है लेकिन याचिका प्रस्तुत करने और दूसरे कामों के लिए वकीलों और हाईकोर्ट के स्टाफ को न्यायालय आना पड़ता है. यही वजह रही कि इतनी बड़ी संख्या में कर्मचारी संक्रमित हो गए. अभी कोरोना काल में पिछले कई महीनों से यहां कामकाज बंद था. कई मामलों के लंबित होने के बाद कोर्ट का कामकाज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शुरू करने का निर्णय लिया गया था. लेकिन इसके लिए भी कुछ कर्मचारियों को न्यायालय परिसर में आना पड़ रहा है.

साउथ तुकोगंज और खातीवाला टैंक कंटेनमेंट जोन घोषित
इंदौर में पिछले 6 दिन से लगातार रोज 550 से ज्यादा कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं. यही वजह है कि अब एक बार फिर से शहर में कंटेनमेंट जोन बनाने पड़ रहे हैं. साउथ तुकोगंज में 42 और खातीवाला टैंक 31 केस सामने आने के बाद शुक्रवार को इन क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया. कलेक्टर मनीष सिंह ने दोनों कंटेनमेंट एरिया के लिए अपर कलेक्टर स्तर के अधिकारियों को इंसीडेंट कमांडर बनाया है.जिन घरों में पॉजिटिव के केस पाए गए हैं, उन घरों को एपीसेंटर घोषित किया गया है. साउथ तुकोगंज में इन्द्रप्रस्थ टावर के पीछे और खातीवाला टैंक में सिंधी कॉलोनी के सामने वाले इलाके को कंटेनमेंट एरिया घोषित किया गया है.

ये बंदिश रहेंगी
संक्रमण रोकने के लिए कंटेनमेंट एरिया में आवागमन प्रतिबंधित रहेगा. कंटेनमेंट एरिया में स्वास्थ्य कर्मचारी स्क्रीनिंग करेंगे. इसके लिए दलों का गठन भी किया गया है. ये दल रोज संदिग्धों की मॉनिटरिंग करने के साथ ही कोरोना संक्रमण के संभावित लक्षण जैसे बुखार, खांसी, गले में दर्द और सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण आने पर वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करेंगे.

Next Post

जनपद पंचायत अम्बाह के सभागार में स्व-सहायता समूहों की दीदियों को दिया गया प्रशिक्षण

मुरैना मप्र डे राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के स्व-सहायता समूह की सीआरपी दीदियों को विकासखण्ड अम्बाह के जनपद सभागार में शुक्रवार को वित्तीय साक्षरता प्रशिक्षण दिया गया। इस प्रशिक्षण में क्रिसिल संस्था भोपाल के विनय कुमार, विकासखण्ड प्रबन्धक अम्बाह दिवाकर शर्मा, विकासखण्ड पोरसा के प्रबन्धक तपन मिश्रा उपस्थित थे। इस […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।