आनलाइन बैठक में गैरहाजिर डीआर और कर्मचारियों पर भोज कुलपति ने लगाई फटकार

News Desk

नैक का अग्रेडेशन मिलने से मिलेगा यूजीसी से करोडों का अनुदान और कोर्स चलाने की मंजूरी
भोपाल
भोज मुक्त विश्वविद्यालय जल्द ही नैक का अग्रेडशन लेने के लिए निरीक्षण कराएगा। इस संबंध में मंगलवार को अधिकारियों की बैठक रखी गई। इसमें विवि के डिप्टी रजिस्ट्रार अरुण सिंह चौहान और करीब आधा दर्जन, प्रोफेसर कर्मचारी और अधिकारी गैरहाजिर थे। उनके अनुपस्थित होने पर कुलपति जयंत सोनवलकर ने नाराजगी व्यक्त की और उनके खिलाफ एक्शन लेने के लिए रजिस्ट्रार एलएस सोलंकी को निर्देशित किया।

आगामी बैठक में उक्त अधिकारी और कर्मचारी नदारद रहते हैं, तो उन्हें नोटिस देकर जवाब तलब किया जाएगा। वहीं बैठक में कुछ रीजनल केंद्रों के अध्यक्ष को भी कुलपति सोनवलकर की फटकार खाना पडी। उन्होंने उनसे कहाकि वे कार्यालयीन समय में केंद्रों पर उपस्थति नहीं रहते हैं। उनका ऐसा व्यवहार उनके सेवाओं की लिए नुकसान दायक हो सकता है। अपने तेज तर्रार रवैये को दिखाते हुए कुलपति सोनवलकर ने सभी को नैक की तैयारियां युद्ध स्तर पर करने के लिए निर्देशित किया है।

विवि को नैक का अग्रेडशन मिलने दो साल पहले बंद हुए करीब तीन दर्जन कोर्स वापस मिल जाएंगे। वहीं नये आनलाइन कोर्स को भी शुरू कर सकेगा। नैक के होने से यूजीसी से कोरोडों रुपए का अनुदान मिलना शुरू जाएगा, जिससे विवि की आर्थिक स्थिति में काफी सुधार होगा। इसलिए कुलपति सोनवलकर ने नैक के मूल्यों के प्रकाश डाला। बैठक संचालक रतन सूर्यवंशी ने नैकी की बारिकियों से अवगत कराया। वहीं महू विवि के डॉ किशोर जॉन ने अपने अनुभव साझा किये। रजिस्ट्रार सोलंकी ने छात्र सहायता एवं शोध कार्यों को महत्व देते हुए सभी शिक्षकों से रीजनल सेंटरों एवं स्टडी सेंटर के पास संचालित स्कूलों में सीका को मजूबत करने कैंप लगाने पर जोर दिया। यहां तक उन्होंने सभी शिक्षक और केंद्राध्यक्षों को नैक की तैयारियों पर एक-एक प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये हैं। उन्हें ये प्रस्ताव तीन दिनों में तैयार कर विवि भेजना होंगे।

Next Post

PM के नए घर पर 13 हजार करोड़ खर्च करने के बजाए लोगों की जान बचाने पर ध्यान दे सरकार: प्रियंका गांधी 

नई द‍िल्‍ली कोरोना की दूसरी लहर के बीच मोदी सरकार के महत्वाकांक्षी सेंट्र्ल विस्टा प्रोजेक्ट को आवश्यक सेवाओं के तहत रखा है। पर्यावरण मंत्रालय ने भी निर्माण को लेकर सारी मंजूरी दे दी है। लॉकडाउन की पाबंदियों के दौरान भी इसका काम जारी है। विपक्षी दलों के नेता इसका कड़ा […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।