अगले 10 दिन में प्रदेश में 1300 मेगावाट बिजली उत्पादन बढ़ेगा

News Desk

जबलपुर
 कोयला सं
कट से जूझ रहे प्रदेश के पावर प्लांट को अगले 10 दिन में कोयले की पर्याप्त आपूर्ति मिलने की उम्मीद है। मप्र पावर जनरेशन कंपनी ने कोल कंपनियों से कोयला तेजी से उठाने के लिए परिवहन ठेका किया है। आपात हालात में कंपनी ने 50 करोड़ रुपये की लागत से परिवहन ठेका किया है। इससे रेल मार्ग के साथ सड़क के रास्ते प्लांट तक कोयला पहुंचाया जाएगा। कम कोयला होने की वजह से अभी प्लांट से करीब 2500 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है जो अगले कुछ दिनों में 3800 मेगावाट तक होने का अनुमान है।

प्रदेश में मप्र पावर जनरेशन कंपनी के प्लांट में अभी एक दिन से लेकर चार दिन का कोयला है। इस वजह से प्लांट कम लोड पर बिजली पैदा कर रहे हैं। देशभर में कोयले की कमी बनी हुई है। कोल माइंस से कोयला निकासी में भारी समस्या हो रही है। ऐसे में रेलवे से भी कई इलाकों से कोयला पहुंचने में परेशानी हो रही है। समय पर प्लांट को कोयला नहीं मिल पा रहा है। पावर जनरेशन कंपनी को हर दिन सात से आठ रैक कोयला ही मिल पा रहा है जबकि उसे फुल लोड पर उत्पादन के लिए 14 से 15 रैक प्रतिदिन कोयले की जरुरत है। प्रदेश के प्लांट में 54 हजार टन कोयले की प्रतिदिन खपत होती है।

Next Post

सेना का पूरा हुआ बदला,TRF के आतंकी का काम-तमाम

  श्रीनगर     जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में सेना की कार्रवाई काफी तेज हो गई है. लगातार आतंकवादियों संग मुठभेड़ हो रही है, उनका सफाया किया जा रहा है. एक बार फिर पुलवामा में सेना ने लश्कर (TRF) के आतंकी का सफाया कर दिया है. मुठभेड़ के दौरान खालिद […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।