बरेली: तीन तलाक पीड़िता रुबीना ने दिया जवाब, हिंदू बन रचाई शादी, लिए सात फेरे

News Desk

बरेली
बरेली की रुबीना को पति ने तीन तलाक दिया तो मुस्लिम धर्म त्याग दिया। उसने हिंदू धर्म अपनाया। जिसके बाद वह रुबीना से पुष्पा बन गई। उसने नवाबगंज में रहने वाले युवक के साथ सात फेरे लिए और अपनी जिंदगी की नई शुरूआत कर दी हैं। रामपुर की रहने वाली रुबीना का हल्द्वानी के रहने वाले शोएब से प्रेम प्रसंग था। दोनों ने करीब नौ साल पहले निकाह किया।उसके तीन बेटे हैं। जिसमें सबसे बड़ा बेटा आठ साल, दूसरा छह साल और तीसरा चार साल का है। शादी के कुछ समय बाद ही पति पत्नी के बीच झगड़े होने लगे। बात-बात पर शोएब रुबीना के साथ मारपीट करता था। उसे प्रताडित करता।

रुबीना के मुताबिक उसका पति उन पर शक करता था। इसी बीच करीब पांच साल पहले उनकी की मुलाकात नवाबगंज के रहने वाले प्रेमपाल से हुई। दोनों में दोस्ती थी, पुष्प ने बताया, करीब एक सप्ताह पहले शोएब और उनके बीच फिर झगड़ा हुआ। मारपीट हुई इसके बाद शोएब ने उसे तीन तलाक दे दिया।

जिसके बाद रुबीना ने प्रेमपाल से शादी करने की इच्छा जताई। जिसके लिए रुबीना ने हिंदू धर्म अपनाया और पुष्पा देवी बन गई। रुबीना ने प्रेमपाल से शादी रचाई उसके सात सात फेरे लिए। इस शादी के साक्षी बने बरेली के केके शंखधार। जिन्होंने दोनों की शादी कराई। पुष्पा ने अपनी जिंदगी की नई शुरूआत कर दी है।

Next Post

मोबाइल गेम ऐप ठगी मामले का आरोपित आमिर खान गाजियाबाद से गिरफ्तार

कोलकाता मोबाइल गेम ऐप (Mobile Game App) के माध्यम से ठगी व मनी लांड्रिंग (Money laundering) से जुड़े मामले में मुख्य आरोपित आमिर खान (Aamir Khan) को कल रात कोलकाता पुलिस (Kolkata Police) की साइबर अपराध रोधी शाखा ने गाजियाबाद (Anti-Cyber Crime Branch Ghaziabad) से गिरफ्तार कर लिया। बता दें […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।