पूर्व भारतीय महिला कप्तान रुमेली धर ने लिया संन्यास, 38 साल की उम्र में क्रिकेट को कहा अलविदा

News Desk

नई दिल्ली
भारतीय महिला क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान मिताली राज के बाद अब रुमेली धर (Rumeli Dhar) ने सभी तरह की क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। 38 साल की रुमेली ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर कर अपने 15 साल के क्रिकेट करियर को अलविदा कह दिया। धर ने 2003 में इंग्लैंड के खिलाफ वनडे से इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था। रुमेली धर ने भारत के लिए चार टेस्ट, 78 वनडे और 18 टी20 इंटरनेशनल मुकाबले खेले। वो 2009 में इंग्लैंड में हुए टी20 विश्व कप में भारत की तरफ से सबसे अधिक विकेट लेने वाली गेंदबाज रही थीं, जिसमें उन्होंने उन्होंने 4 मैच में 6 विकेट हासिल किए थे।

रुमेली धर ने इंस्टाग्राम पर इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने की जानकारी देते हुए लिखा, 'पश्चिम बंगाल के श्यामनगर से शुरू हुआ मेरा 23 साल लंबा क्रिकेट सफर आखिरकार खत्म होने जा रहा है। मैं क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले रही हूं। इस सफर में कई उतार-चढ़ाव आए। भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलना और 2005 के फाइनल पहुंचना मेरे लिए सबसे यादगार रहेगा। इस सफर में कई बार चोट से मेरा करियर पटरी से भी उतरा। लेकिन, हर बार और मजबूत होकर मैंने वापसी की। मैं इस मौके पर बीसीसीआई, दोस्तों और साथी खिलाड़ियों का सहयोग के लिए उन्हें धन्यवाद देती हूं।' धर ने भारत के लिए अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के साथ 2018 में हुई ट्राय नेशन टी20 सीरीज में खेला था। उस सीरीज में वह 6 साल के लंबे इंतजार के बाद भारतीय टीम में लौटी थीं, जब उनकी उम्र 34 साल थी।

Next Post

शाला प्रवेश उत्सव में सभापति दुबे ने बच्चों को किया ड्रेस व किताब वितरित

रायपुर कुशालपुर उच्चतर माध्यमिक शाला में आज शाला प्रवेश उत्सव का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें नगर निगम के सभापति प्रमोद दुबे ने गणवेश के तौर पर ड्रेसव एवं कॉपी – किताब वितरण किया। इस अवसर पर शाला विकास समिति के अध्यक्ष मुन्ना मिश्रा, मनहरण साहू, डॉ विष्णु राजपूत ,महेंद्र […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।