CM उद्धव की संपत्ति के खिलाफ HC में याचिका दायर

News Desk

मुंबई

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता किरीट सोमैया ने बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से जुड़ी एक संपत्ति के खिलाफ जनहित याचिका दायर की है। इसके जरिए उन्होंने संपत्ति की जांच की मांग की है। हालांकि, अभी तक इस PIL को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध नहीं किया गया है।

सोमैया ने जिस संपत्ति पर सवाल उठाए हैं, वह कथित तौर पर सीएम ठाकरे की पत्नी और शिवसेना विधायक रविंद्र वाइकर की पत्नी मनीषा ने महाराष्ट्र के रायगढ़ में मुरुड तालुका में मिलकर खरीदी है। भाजपा नेता ने पर्यावरण मंत्रालय की तरफ से इस संपत्ति की जांच की मांग की है। इसके अलावा वह अलीबाग स्थित प्रॉपर्टी के संबंध में सीएम ठाकरे और उनकी परिवार की तरफ से की गई कथित 'अवैधता' की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ED) और अन्य एजेंसियों से भी कराना चाहते हैं।

अपनी याचिका में सोमैया ने कहा है कि ठाकरे और विधायक वाइकर ने चुनावी हलफनामे में संपत्ति को छिपाया और उसपर निर्मित ढांचे का मूल्यांकन कम किया। PIL में कहा गया है कि नेताओं ने रिप्रेजेंटेशन ऑफ द पीपुल एक्ट 1951 का उल्लंघन किया है।

उन्होंने दावा किया है कि इस कथित संपत्ति के आरक्षित वन क्षेत्र में आने के बाद भी रश्मि ठाकरे और मनीषा वाइकर ने कोई पर्यावरण या वन मंजूरी नहीं ली है। खास बात है कि सोमैया पहले भी इस तरह का दावा कर चुके हैं। भाजपा नेता ने अपनी याचिका में प्रॉपर्टी की स्थिति, निर्माण और भुगतान के तरीकों की जांच की मांग उठाई है।

 

Next Post

शंभूराज देसाई भी दे रहे उद्धव ठाकरे को गहरा दर्द, बगावत में है बड़ा रोल

मुंबई महाराष्ट्र की सियासत में बीते कई दिनों से एकनाथ शिंदे का नाम गूंज रहा है। पुराने शिवसैनिक एकनाथ शिंदे फिलहाल 34 शिवसेना विधायकों समेत 42 नेताओं के साथ गुवाहाटी में जमे हैं। इसके चलते उद्धव ठाकरे बैकफुट पर हैं, लेकिन इसमें अकेले एकनाथ शिंदे का ही रोल नहीं है। […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।