यूपीए सरकार के वक्त देश की इकोनॉमी ठहर गई थी-एनआर नारायण मूर्ति

News Desk

नई दिल्ली

कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार के वक्त देश की इकोनॉमी ठहर गई थी। ये बात दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति ने कही है। उन्होंने कहा कि बतौर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह असाधारण व्यक्ति थे लेकिन भारत में आर्थिक गतिविधियां आगे नहीं बढ़ पा रही थीं।

क्या कहा को-फाउंडर ने: नारायण मूर्ति ने कहा-मैं लंदन में (2008 और 2012 के बीच) एचएसबीसी के बोर्ड में था। पहले कुछ वर्षों में, जब बोर्डरूम (बैठकों के दौरान) में चीन का दो से तीन बार जिक्र किया गया, तो भारत का नाम एक बार आता था'' मूर्ति ने आगे कहा, ''मुझे नहीं पता कि भारत के साथ क्या हुआ। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह एक असाधारण व्यक्ति थे और मेरे मन में उनके लिए बहुत सम्मान है। लेकिन यूपीए के दौर में भारत ठहर गया था। निर्णय नहीं लिए जा रहे थे।''

2008 में बोर्ड में शामिल: आपको बता दें कि साल 2008 में दुनिया की बड़ी बैंको में शुमार एचएसबीसी के बोर्ड में नारायण मूर्ति शामिल किए गए थे। उन्हें एचएसबीसी होल्डिंग्स के स्वतंत्र गैर-कार्यकारी निदेशक बनाया गया था। नारायण मूर्ति के मुताबिक जब उन्होंने साल 2012 में एचएसबीसी के बोर्ड को छोड़ा, तो बैठकों के दौरान भारत का नाम शायद ही कभी आता था, जबकि चीन का नाम लगभग 30 बार लिया गया।

नारायण मूर्ति ने कहा कि आज दुनिया में भारत के लिए सम्मान का भाव है और देश अब दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।

 

Next Post

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी मामले में आरोपी संजीव सिंह को गिरफ्तार

चंडीगढ़ चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी मामले में पंजाब पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. पुलिस ने आरोपी सेना के जवान संजीव सिंह को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस को CJM बोडाली ने आरोपी को मोहाली कोर्ट में पेश करने के लिए ट्रांजिट रिमांड दे दी. जिसके बाद उसे मोहाली लाया गया है. […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।