जीसैट सीरीज का 11वां सैटेलाइट सफलतापूर्वक लॉन्च

News Desk

  फ्रेंच गुएना  

यूरोपियन स्पेस एजेंसी (ESA) और एरियन स्पेस (Arianspace) ने भारत के जीसैट-24 (GSAT-24) संचार उपग्रह को 22 जून 2022 को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में तैनात कर दिया है. इस सैटेलाइट का फायदा टाटा कंपनी को होगा. क्योंकि इसरो की कॉमर्शियल ब्रांच न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (NSIL) ने जीसैट-24 उपग्रह को टाटा प्ले (TATA Play) को लीज पर दे दिया है.

अब देश में डीटीएच जरूरतों को पूरा करने में यह सैटेलाइट अखिल भारतीय कवरेज मुहैया कराएगा. इस सैटेलाइट और उसके सभी उपकरणों को 18 मई 2022 को मालवाहक विमान ग्लोबमास्टर सी-17 के जरिए कौरोउ भेजा गया था. जीसैट-24 एक 24-केयू बैंड संचार उपग्रह है जिसका वजन 4181 किलोग्राम है. लॉन्चिंग 22 जून 2022 को फ्रांस के फ्रेंच गुएना स्थित कौरोउ स्थित एरियल स्पेस सेंटर से की गई.

जीसैट-24 सैटेलाइट 15 सालों के लिए काम करेगा. यह अपनी सेवाएं डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर टाटा प्ले के लिए देगा. इस सैटेलाइट की मदद से पूरे भारत में टाटा प्ले ज्यादा बेहतर और सुचारू रूप से चलने वाली डीटीएच सेवाएं दे पाएगा. एरियनस्पेस से यह 25वां भारतीय सैटेलाइट लॉन्च किया है. एरियनस्पेस ने 11 जीसैट-24 सैटेलाइट्स अब तक लॉन्च किए हैं. इसरो और एरियनस्पेस का संबंध 1981 से लगातार बना हुआ है. इसकी शुरुआ Apple सैटेलाइट की लॉन्चिंग से हुई थी.  

इसरो के जीसैट-24 के अलावा इस रॉकेट से MEASAT नाम का सैटेलाइट भी लॉन्च किया गया है. इसे एयरबस कंपनी ने तैयार किया था. इसका वजन 5648 किलोग्राम है. ये दोनों ही सैटेलाइट धरती के जियोस्टेशनरी ऑर्बिट में चक्कर लगाएंगे. एरियन-5 ईसीए (Arian-5 ECA) रॉकेट 53 मीटर ऊंचा रॉकेट है. इसका व्यास 11.5 मीटर है. यह भारी उपग्रहों को तय कक्षा में पहुंचाने की ताकत रखता है.

Next Post

बेंगलुरु: मशहूर शिक्षण संस्थानों पर IT विभाग का शिकंजा, कई ठिकानों पर मारी रेड

बेंगलुरु आयकर विभाग ने बेंगलुरु में कई प्रतिष्ठित निजी शिक्षण संस्थानों पर शिकंजा कसा है। आयकर विभाग की टीम बेंगलुरु में निजी शिक्षण संस्थानों के दफ्तरों और भवनों पर छापेमारी की। समाचार एजेंसी आइएएनएस के मुताबिक, आयकर विभाग के अधिकारी सुबह से ही श्री कृष्णदेवराय शिक्षा संस्थान, रेवा विश्वविद्यालय और […]

कोरोना वाइरस के बारे में

भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रही है कि हम COVID 19 - कोरोना वायरस की बढ़ती महामारी से उत्पन्न चुनौती और खतरे का सामना करने के लिए अच्छी तरह से तैयार हैं। भारत के लोगों के सक्रिय समर्थन के साथ, हम अपने देश में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने में सक्षम हैं। स्थानीय रूप से वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जा रही सलाह के अनुसार सही जानकारी के साथ नागरिकों को सशक्त बनाना और सावधानी बरतना है।